निर्गुन्डी तेल के फायदे 2022| nirgundi tel ke fayde | nirgundi in hindi

निर्गुन्डी तेल के फायदे | nirgundi tel ke fayde | nirgundi in hindi | nirgundi in hindi | nirgundi patanjali | nirgundi oil patanjali | nirgundi ka paudha | nirgundi benefits | निर्गुन्डी का तेल कैसे बनाए | निर्गुन्डी का पौधा कहा मिलता है | निर्गुन्डी के औषधीय उपयोग | निर्गुन्डी आयल के फायदे | निर्गुन्डी तेल के फायदे | nirgundi oil uses in hindi | nirgundi oil for hair | nirgundi oil for skin 

यह औषधीय तत्वों से भरपूर होता है | अगर शरीर में किसी जगह सूजन है | और घाव लगा है | तो इसके तेल को लगा के धूप में सेकने पर सूजन ठीक हो जाता है | यह बैक्टीरिया को ख़त्म करने में सहायक है | निर्गुन्डी के पौधों को खाने से कब्ज और पाचन सुधरता है | लीवर बहुत अच्छी तरह से काम करता है | 

कुष्ठ रोगी भी इसका उपयोग बहुत अधिक मात्रा में करते है | यह स्त्रियों के मासिक विकार को सही करता है | आँखों की रोशनी के लिए यह वरदान साबित होता है | यह टाइफॉइड और सुखी खाँसी को ठीक करने में सहायक होता है | 

आज के इस आर्टिकल में हम यही देखेंगे कि निर्गुन्डी तेल के फायदे क्या है | इसका उपयोग कैसे किया जाता है | पुरा आर्टिकल ध्यान से पढ़े | 

निर्गुन्डी क्या होता है | what is nirgundi 

इसका वानस्पतिक नाम vitex negundo है | इसे समालू ,शिवारी ,शेफाली के नाम से लोग पुकारते है | लोग इसकी पत्तियों को काढ़ा बनाकर औषधि के रूप में प्रयोग करते है | इससे जुकाम ,सिरदर्द ,आमवात विकार ,तथा जोड़ो के सूजन से सम्बंधित समस्याए खत्म हो जाती है | 

इसके सेवन से आँखों की ज्योति बढ़ जाती है | यह पेट के कीड़ो को भी नष्ट करने के लिए प्रयोग किया जाता है | बहुत सारे लोग निर्गुन्डी की पत्तियों के काढ़ा बनाकर प्रयोग करने के साथ -साथ निर्गुन्डी का तेल बनाकर प्रयोग भी करते है | यह जोड़ो के दर्द में बहुत प्रयोग किया जाता है | 

निर्गुन्डी तेल के घटक कौन -कौन से है | ingredients of nirgundi oil in hindi 

  • तिल तेल मूर्छित 
  • कलिहारी -मूल 
  • निर्गुन्डी का रस 

निर्गुन्डी तेल बनाने की विधि | 

निर्गुन्डी का तेल बनाने के लिए सबसे पहले तिल तेल मूर्छित 108 तोला ,लेकर उसमे कलिहारी मूल 16 तोला ,को लेकर कल्क बनावे तथा उसमे निर्गुन्डी का रस 512 तोला ,मिलाकर सबको कड़ाही में डालकर अच्छी तरह से तेलपाक विधि द्वारा सिद्ध करे और उसे छानकर प्रयोग करे | 

1 तोला =11. 66 ग्राम 

निर्गुन्डी तेल के गुण और उपयोग | 

यह तेल गण्डमाला ,अपची ,नाड़ीब्रण ,आदि रोगों में नस्य लेने एवं लगाने के काम में उपयोग किया जाता है | इसके प्रयोग से इन रोगों में बहुत लाभ होता है | 

निर्गुन्डी तेल के फायदे | nirgundi tel ke fayde 

  • सिरदर्द में राहत | 

निर्गुन्डी के चूर्ण को 1 चम्मच लेकर शहद में मिलाकर सेवन करने से सिरदर्द में राहत हो जाता है | 

  • लीवर से सम्बंधित बिमारी से छुटकारा | 

टायफायड होने के कारण अगर तिल्ली बढ़ गई है | तो निर्गुन्डी के पत्ते का चूर्ण हरड़ के साथ सेवन करने से लीवर से सम्बंधित बिमारी में छुटकारा मिलता है | 

  • स्त्री रोग सम्बंधित बिमारी से छुटकारा | 

इसको नाभि पे लगाकर धूप सेकने पर स्त्रियों कि प्रसव से सम्बंधित बिमारी से छुटकारा मिलता है | 

  • सूजन को कम करने में उपयोगी | 

अगर शरीर में सूजन है तो शरीर पर लगाने से सूजन की समस्या ख़त्म हो जाती है | 

  • गठिया रोग में लाभप्रद | 

इसको लगाने से पुराना से पुराना गठिया रोग ठीक हो जाता है | 

  • स्किन को सही करने में प्रयोग | 

इसको लगाने से पुराने से पुराना घाव ,खुजली ,एक्जिमा ,चर्म रोग ,आदि ठीक हो जाता है | 

  • कामोत्तजना में वृद्धि होती है | 

इसको लिंग पर लगाने से कामोत्तेजना में वृद्धि होती है | उसका ढीलापन दूर होता है | 

  • प्रजनन क्षमता में फायदेमंद | 

यह महिलाओं के प्रजनन क्षमता को सही करता है | जिससे उनके बच्चे पैदा करने में आसानी होती है | 

  • त्वचा को सुधारने के लिए उपयोगी | 

यह त्वचा को चमकदार बनाने में उपयोगी है | इसके प्रयोग से मुहांसे ,चेहरों का रूखापन ,त्वचा का फटना आदि दूर होते है | 

  • बांझपन में प्रयोग | 

कई स्त्रियों को बांझपन के कारण -समाज में हीनता का सामना करना पड़ता है | लेकिन निर्गुन्डी के प्रयोग से यह ठीक होने की संभावना रहती है | 

निर्गुन्डी तेल की प्रयोग विधि | nirgundi oil uses in hindi 

  • इसका प्रयोग शरीर के बाहरी हिस्सों पर करने के लिए किया जाता है | 
  • इस तेल को शरीर पर लगाने के बाद 10 मिनट तक मालिश करना चाहिए | और धूप जरूर लेना चाहिए | 
  • इस दवा को खरीदने के लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन स्टोर से मंगा सकते है | 
  • डॉक्टर के अनुसार ही तेल का प्रयोग करे | 
  • गर्भवती महिलाएं इसे लेने से बचे | 

निर्गुन्डी तेल के दुष्प्रभाव क्या है | nirgundi oil side effects in hindi 

  • इसे स्तनपान के समय प्रयोग नहीं करना चाहिए | 
  • छोटे बच्चों को इसके प्रयोग से बचना चाहिए | 
  • इसको लगाने के बाद शरीर पर किसी भी प्रकार की इचिंग हो तो इसके प्रयोग से दूर रहे | 

निर्गुन्डी तेल बनाने वाली कंपनी | 

  • Baidanath nirgundi tail 
  • kamdhenu nirgundi tail 
  • alva nirgundi tail 
  • dabur nirgundi tail 
  • patanjali nirgundi tail 

रुपये निर्गुन्डी तेल की कीमत क्या -क्या है | 

  • nirgundi oil kamdhenu price 

100 ml की price 215 है | 

  • deve herbes nirgundi price 

50 ml की price 399 रुपये है |

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock